होम देश मोदी सरकार का संसद में लिखित बयान: किसान आंदोलन में किसानों की...

मोदी सरकार का संसद में लिखित बयान: किसान आंदोलन में किसानों की मौत का कोई रिकॉर्ड नहीं है

देश में पिछले 8 महीनों से चल रहे किस कानून के खिलाफ आंदोलन में संयुक्त किसान मोर्चा के मुताबिक अब तक 600 लोगों की जान जा चुकी है, लेकिन सरकार के पास ऐसा कोई आंकड़ा उपलब्ध नहीं है।

केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने शुक्रवार को राज्यसभा में एक सवाल के लिखित जवाब में बताया कि सरकार के पास इस बात का कोई रिकॉर्ड नहीं कि किसान आंदोलन में कितने लोगों की जान गई है।

किसानों के के द्वारा केंद्र सरकार के द्वारा लाए गए 3 नए कृषि कानूनों के खिलाफ पिछले साल नवंबर से दिल्ली की सीमाओं पर आंदोलन चल रहा है।

इस आंदोलन में संयुक्त किसान मोर्चा के मुताबिक 600 से ज्यादा किसानों की जान जा चुकी है।

जिसमें कई सारे किसानों की जान खुदकुशी से एवं स्वास्थ्य खराब होने के कारण गई।

राज सभा में अपने लिखित उत्तर के दौरान कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने यह भी कहा कि “केंद्र सरकार ने संयुक्त किसान मोर्चा के नेताओं से चर्चा के दौरान उनसे अपील की थी कि ठंड के समय और कोविड-19 की महामारी की स्थिति में बच्चों और बुजुर्गों विशेषकर महिलाओं को घर जाने की अनुमति दी जानी चाहिए।

साथ ही लिखित जवाब में तोमर ने कहा इन कृषि कानूनों के कारण किसानों के मन में पैदा हुई आशंकाओं के कारणों का पता लगाने के लिए कोई अध्ययन नहीं कराया गया है।

उन्होंने साथ ही यह कहा कि केंद्र ने किसानों की आशंकाओं को दूर करने के लिए लगातार प्रयास किए हैं।

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें